CrimeBiharNationalPolitics

CBI Raid in Bihar: बिहार सरकार के अनुमति के बिना CBI बिहार में अब नहीं कर सकेगी एक भी रेड, जानें पूरी खबर

बिहार में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की ताबतोड़ हो रही कारवाई पर महागठबंधन सरकार (Mahagathbandhan Government) ने गहरी नाराजगी जताई है. सरकार ने सीबीआई (CBI) की बिहार में डायरेक्ट इंट्री पर नकेल कसने का फैसला लिया है.

CBI Raid in Bihar

यह कहना है राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) का. उनके मुताबिक रविवार को पटना (Patna) में जेडीयू कार्यालय में महागठबंधन में शामिल सभी पार्टियों की हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया कि बिना सरकार की अनुमति के सीबीआई आगे से बिहार में कोई कार्रवाई न करे. इस फैसले को अमलीजामा पहनाने के लिए बिहार सरकार (Bihar Government) ने सीबीआई को पूर्व में अपनी तरफ से दी गई सहमति शक्ति को वापस ले ली है.

शिवानंद तिवारी ने कहा कि बिहार से पहले पश्चिम बंगाल सरकार ने भी सीबीआई के संबंध में ऐसा ही निर्णय लिया था. पश्चिम बंगाल के साथ ही छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब, मेघालय ने भी इस तरह का फैसला पहले से ले रखा है. सीबीआई के विरुद्ध ऐसा निर्णय लेने वाले ज्यादातर राज्य विपक्ष के द्वारा शासित हैं.

CBI Raid in Bihar: बिहार सरकार के अनुमति के बिना CBI बिहार में अब नहीं कर सकेगी एक भी रैड

देखा जाए तो लालू परिवार के विरुद्ध सीबीआई की कार्रवाई लगातार जारी है. बता दें कि बहुचर्चित चारा घोटाला के पांच मामलों में लालू यादव सजायाफ्ता हैं और पिछले कई वर्षों से जेल में बंद थे. इसके अलावा, IRCTC घोटाला और रेलवे में नौकरी के बदले जमीन मामले में भी लालू यादव और उनका परिवार आरोपी है.

शिवानंद तिवारी ने कहा कि बिहार से पहले पश्चिम बंगाल सरकार समेत कई अन्य राज्यों ने भी सीबीआई के संबंध में ऐसा ही निर्णय लिया था (फाइल फोटो)

वहीं, इस पर बिहार विधान परिषद में नेता विपक्ष सम्राट चौधरी का कहना है कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी जल्दी ही जेल जाएंगे. उनपर भी सीबीआई जांच की तलवार लटक रही है. लालू यादव के हनुमान कहे जाने वाले भोला यादव भी सीबीआई की जांच के बाद जेल में हैं. जबकि पिछले हफ्ते लालू परिवार के करीबी और एमएलसी सुनील सिंह और राज्यसभा सांसद फैयाज अहमद समेत कुल पांच आरजेडी नेताओं के ठिकाने पर सीबीआई ने छापेमारी की थी।

इससे पहले, पटना में राबड़ी आवास समेत लालू यादव के कई ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की थी. इन सभी कारवाई को देखते हुए अब बिहार सरकार ने फैसला किया है कि आगे से सीबीआई कोई भी कारवाई बिना उसकी अनुमति के राज्य में नहीं कर सकती.

ये भी पढ़ें:

पश्चिम बंगाल में दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक बनाएगा इस्कॉन, जानिए 7 बातें…

20 लाख नौकरी की बात से BJP इनसेक्योर, कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह प्रकरण पर बोले तेजस्वी…

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button