EducationInternationalJobsNational

Agnipath Recruitment Scheme: जानें- किन देशों में पहले से ही लागू है ‘अग्निपथ’ जैसा नियम, भारत में इस योजना पर हो रही है सियासत

Agnipath Recruitment Scheme: द उज्ज्वल के इस पोस्ट में हम आपको बतायेंगे किन देशों में पहले से ही लागू है ‘अग्निपथ’ जैसा नियम। भारत में अग्निपथ योजना का भले ही विरोध हो रहा हो, लेकिन दुनिया के कई ऐसे देश हैं जहां सैन्‍य सेवा संवैधानिक रूप से बाध्‍यकारी है। भारत पहली ऐसी देश नही है। इस मामले में कई देश का भी नाम है।

अग्निपथ योजना भारत में बाध्‍यकारी नहीं है। उधर, अग्निपथ योजना को लेकर भारतीय युवाओं में रोष इस बात का है कि इस योजना से वह चार साल के बाद बेरोजगार हो जाएंगे और उन्हें कोई नहीं पूछने वाला होगा, लेकिन सरकार इसके पक्ष में दुनिया के तमाम देशों का उदाहरण भी पेश कर रही है। आये दिन इसको लेकर सरकार नई नई घोषणाएं भी कर रहीं हैं।

आपको ज्ञात हो, देशभर में अग्निपथ योजना का विरोध हो रहा है। कई शहरों से आगजनी और हिंसा की खबरें आ रही हैं। दरअसल, सरकार की यह नई योजना अग्निपथ ‘टूर आफ ड्यूटी एंट्री स्कीम’ है। इस योजना के तहत सैनिकों को एक निश्चित समय के लिए कान्ट्रैक्ट के आधार पर सेना (थलसेना, नवसेना, वायुसेना) में भर्ती मिलेगी और ट्रेनिंग के बाद युवाओं को अलग-अलग फील्ड में तैनात किया जाएगा। ऐसे में यह सवाल उठता है कि दुनिया के किन मुल्‍कों में यह सेवा बाध्‍यकारी है। आइए जानते हैं उन मुल्‍कों के बारे में।

इजरायल: इजरायल में सैन्य सेवा पुरुषों और महिलाओं के लिए अनिवार्य है। 2020 तक पुरुषों के लिए अनिवार्य सेवा दो साल और छह महीने थी और महिलाओं के लिए दो साल है। राष्ट्रीय सेवा (NS) देश और विदेश में इजरायली नागरिकों पर लागू होती है। नए अप्रवासियों और कुछ धार्मिक समूहों के लिए चिकित्सा आधार पर छूट दी गई है।

बरमूडा: देश सेवा को अनिवार्य किया गया है। हालांकि, बरमूडा यूनाइटेड किंगडम का एक विदेशी क्षेत्र है, फिर भी अपने स्थानीय बल के लिए वह भर्ती करता है। 18 और 32 वर्ष की आयु के बीच के पुरुषों को 38 महीने की अवधि के लिए बरमूडा रेजिमेंट में सेवा देनी होती है। इसके लिए लाटरी सिस्‍टम से चयन किया जाता है।

ब्राजील: ब्राजील में पुरुषों को अपने 18वें जन्मदिन पर 12 महीने की सैन्य सेवा देनी होती है। हालांकि, स्वास्थ्य कारणों से इसमें छूट दी गई है। इसके अलावा यदि आप विश्वविद्यालय में पढ़ रहे हैं, तो सेवा में छूट मिल सकती है।

कभी नीतीश के प्रिय थे अनंत सिंह, सुशासन में भी था जलवा, फिर कैसे बन गए आंख की किररिरी, जानिए छोटे सरकार की कहानी….

साइप्रस : साइप्रस में 17 और 50 वर्ष की आयु के बीच सभी पुरुषों के लिए सैन्‍य सेवा को अनिवार्य किया गया है।2008 के बाद से अर्मेनियाई, लैटिन और मैरोनाइट्स के धार्मिक समूहों से संबंधित सभी पुरुषों को इसमें शामिल किया गया है। वह भी सैन्य सेवा करते हैं। सैन्य सेवा 24 महीने तक चलती है।

ग्रीक : देश सेवा को अनिवार्य किया गया है। ग्रीस कानून के तहत 19 से 45 वर्ष की आयु के बीच के ग्रीक पुरुषों को सैन्य सेवा करना अनिवार्य है। यह कानून किसी भी व्यक्ति पर लागू होता है, जिसे ग्रीक अधिकारी ग्रीक मानते हैं, भले ही वह व्यक्ति खुद को ग्रीक नहीं मानता हो, उसके पास विदेशी नागरिकता और पासपोर्ट हो या वह ग्रीक के बाहर पैदा हुआ हो या रहता हो।

ईरान: ईरान में सैन्‍य सेवा को अनिवार्य किया गया है। ईरान में पुरुषों के लिए अनिवार्य सैन्य सेवा है, जो 18 साल की उम्र से शुरू होती है। हालांक‍ि, शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं और अक्षमताओं के लोगों को इसमें छूट दी गई है। इसके अतिरिक्‍त उन छात्रों को छूट दी गई है, जिनका नामांकन विश्वविद्यालय में है। वह विलंब से इस सेवा में शामिल होते हैं। सैन्य सेवा की अवधि आम तौर पर 24 महीने होती है, लेकिन निराश्रित क्षेत्रों में सेवा के लिए इसे घटाकर 22 महीने और सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए 20 महीने है।

Agnipath Recruitment Scheme

उत्तर कोरिया : उत्‍तर कोर‍िया में सैन्‍य सेवा को अनिवार्य किया गया है। पुरुषों को सार्वभौमिक रूप से भर्ती किया जाता है, जबकि महिलाओं को चयनात्मक भर्ती से गुजरना पड़ता है। 14 साल की उम्र में भर्ती होती है। सेवा 17 से प्रारंभ होती है और 30 वर्ष की उम्र पर समाप्त होती है। कोरियाई युद्ध से पहले पहली बार भर्ती शुरू हुई थी।

दक्षिण कोरिया : 18-28 वर्ष की आयु के बीच सभी सक्षम कोरियाई पुरुषों को लगभग दो वर्षों तक देश की सेना में सेवा करने की आवश्यकता होती है। पिछले साल दिसंबर में दक्षिण कोरियाई संसद ने सभी पाप सितारों को 30 साल की उम्र तक अपनी सैन्य सेवा में देरी करने की अनुमति देने वाला एक विधेयक पारित किया था।

मेक्सिको: वर्ष 2000 के बाद से महिलाओं को सैन्य सेवा के लिए स्वयंसेवा करने की अनुमति दी गई है। यद्यपि सभी 18 वर्षीय पुरुषों के लिए सैन्य सेवा अनिवार्य है। सक्रिय-ड्यूटी के लिए भर्ती केवल 18 से 21 वर्ष की आयु के लिए हो सकती है। इसमें वह नागरिक शामिल हैं, जिन्होंने माध्यमिक शिक्षा पूरी की है।

Bihar Social Media Ban: बिहार के 12 जिलों में सोशल साइट पर रोक, गृह विभाग ने जारी किया आदेश…

रूस: रूस में 18 से 27 वर्ष की आयु के पुरुषों के लिए सैन्य सेवा अनिवार्य है। 1980 के दशक में सैन्य सेवा की अवधि दो साल से घटाकर अठारह महीने कर दी गई थी, लेकिन 1995 में विधायी परिवर्तनों ने इसे फिर से दो साल तक बढ़ा दिया।

सिंगापुर: राष्ट्रीय सेवा (एनएस) अनिवार्य भर्ती और कर्तव्य है, जो प्रत्येक पुरुष नागरिक और पीआर को 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर करना चाहिए। एनएस को सिंगापुर सशस्त्र बलों (एसएएफ), सिंगापुर नागरिक सुरक्षा बल (एससीडीएफ) या सिंगापुर पुलिस बल में सेवा दी जा सकती है। यह सेवा अनिवार्य है। यदि इसमें चूक होती है तो दोषसिद्धि पर 10 हजार सिंगापुरियन डालर से अधिक के जुर्माने या तीन साल से अधिक की अवधि के कारावास या दोनों के लिए उत्तरदायी होंगे।

स्विट्जरलैंड: स्विट्जरलैंड में स्विस सेना में सभी सक्षम पुरुष नागरिकों के लिए अनिवार्य सैन्य सेवा है। हालांकि महिलाएं किसी भी स्थिति के लिए स्वयंसेवा कर सकती हैं। बुनियादी सैन्य सेवा लगभग 21 सप्ताह की होती है।

थाईलैंड: थाईलैंड में 1905 में भर्ती शुरू की गई थी। देश के संविधान के अनुसार, सशस्त्र बलों में सेवा करना सभी थाई नागरिकों का राष्ट्रीय कर्तव्य है। व्यवहार में केवल 21 वर्ष से अधिक आयु के पुरुष जो आरक्षित प्रशिक्षण से नहीं गुजरे हैं, वे भर्ती के अधीन हैं।

तुर्की: तुर्की में अनिवार्य सैन्य सेवा 20 से 41 वर्ष की आयु के सभी पुरुष नागरिकों पर लागू होती है। जो लोग अपने सैन्य प्रारूपण से पहले उच्च शिक्षा या व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों में लगे हुए हैं, उन्हें सेवा को तब तक स्थगित करने की अनुमति है, जब तक कि वे कार्यक्रम पूरा नहीं कर लेते या एक निश्चित आयु तक नहीं पहुंच जाते।

संयुक्त अरब अमीरात: संयुक्त अरब अमीरात में इसे आमतौर पर राष्ट्रीय सेवा (एनएस) के रूप में जाना जाता है। 17 से 30 वर्ष की आयु के सभी अमीराती पुरुषों के लिए सैन्य सेवा अनिवार्य है। इसकी अवधि 16 महीने के लिए होती है। संयुक्त अरब अमीरात ने सितंबर 2014 में अपनी राष्ट्रीय सेवा शुरू की।

क्या है ‘अग्निपथ योजना’? जानिए किसे मिलेगी सेना में 4 साल के लिए नियुक्ति, कहां होगी तैनाती 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button