EducationBiharSupaul

Supaul News: ‘पहले मेरे पिताजी का 65 महीने से बकाया वेतन दीजिए’, सुपौल में लड़की ने जांच टीम को दिखाई चप्पल

Story Highlights
  • 65 महीने से रुका हुआ है प्राइमरी स्कूल के शिक्षक रमेश कुमार रमण का वेतन।
  • लड़की ने जांच अधिकारियों से पिता के वेतन की मांग करते हुए चप्पल उठा लिया।
  • DEO सुरेंद्र कुमार ने कहा कि मामले की फिलहाल सूचना नहीं मिली है।

Supaul News : बिहार के सुपौल जिले में एक स्कूल में जांच गए अधिकारियों को एक शिक्षक की बेटी के विरोध का सामना करना पड़ा।

शिक्षक को कथित तौर पर पिछले 65 महीनों से वेतन रुका हुआ था जिसके विरोध में लड़की ने जांच करने गए अधिकारियों के सामने चप्पल उठा लिया। इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ है जिसमें साफ नजर आ रहा है कि लड़की अधिकारियों से बार-बार अपने पिता के वेतन के भुगतान की मांग कर रही है। इस दौरान उनके हाथ में चप्पल भी दिख रहा है।

ये हैं बिहार के टॉप 5 मंदिर जहाँ दर्शन भर से दूर हो जाता है कष्ट

सुपौल के प्राइमरी स्कूल की है घटना

यह घटना बिहार के सुपौल जिले के छातापुर में मोहम्मदगंज स्थित प्राइमरी स्कूल की है। इस स्कूल में जांच के लिए पहुंचे शिक्षा विभाग के डीपीओ स्थापना पर एक लड़की ने चप्पल उठा दिया। दरअसल, इस प्राइमरी स्कूल में पढ़ाने वाले एक शिक्षक रमेश कुमार रमण का वेतन पिछले 65 महीने से रुका हुआ है। इसको लेकर बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के बैनर के तहत नियोजित शिक्षक लगातार धरना और अनशन कर रहे हैं। इसी मामले की जांच करने डीपीओ स्थापना स्कूल पहुंचे थे।

शिक्षक की बेटी ने उठा दिया चप्पल

DPO अभी जांच वगैरह कर ही रहे थे कि इसी दौरान सबंधित शिक्षक की बेटी ने उनपर चप्पल उठा दिया। वह बार-बार अपने शिक्षक पिता की सैलरी का भुगतान करने को कह रही थी। अब इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में युवती के हाथ में चप्पल दिख रही है, और वह लगातार वेतन भुगतान की मांग कर रही है। थोड़ी देर बाद पदाधिकारी अपनी गाड़ी में बैठकर वहां से निकल गए। इस मामले को लेकर DEO सुरेंद्र कुमार ने कहा कि मामले की फिलहाल सूचना नहीं मिली है और अगर ऐसा कोई शिकायत मिलेगी तो इस पर कार्रवाई की जाएगी।

सुपौल के विद्यासागर ने दूसरी बार किया UPSC क्रैक, इस बार 272 वां रैंक मिला, जाने डिटेल में…

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button